Tuesday, February 22, 2011

बाक फ्लावर चिकित्सा पद्धति


अंक - 3
- आचार्य परशुराम राय
10.                         क्रैब एपल (Crab Apple):   अपने प्रति घृणा,उदासी और निराशा। यह औषधि हमारे मन या शरीर का उन रोगों से मुक्त करती है जिनके कारण हम अपने आप से घृणा करते हैं या उस अंग को काट देना चाहते हैंजिसके कारण हमें शारीरिक या मानसिक पीड़ा होती हो। दूसरे शब्दों में रोगी जब दाँत के दर्द से पीड़ित होता है तो वह डॉक्टर से उस दाँत को निकाल देने के लिए कहता है। फोड़े से पीड़ित है तो जल्दी आपरेशन कराकर उस फोड़े से मुक्त होना चाहता है। यदि उसे कोई चर्मरोग हो गया हैजिससे वह लोगों के बीच में अपने को हीन समझता है तथा उसे लोगों से छिपाता है,तो 'क्रैब एपलके प्रयोग से उसे रोग से छुटकारा मिल सकता है।
11.                         एल्म (Elm):  प्राय: अपर्याप्तता का भावउदासी और थकान। यह औषधि उनके लिए हैजो अपने उत्तरदायित्व और कार्य के बोझ से अपने को प्राय: दबा हुआ महसूस करते हैं और अपेक्षित परिणाम न मिलने से उदास हो जाते हैं तथा थकान का अनुभव करते हैं। अत: यह दवा उन लोगों के लिए उपयुक्त है जो काफी सक्षम हैं और ऊॅंचे पदों पर कार्यरत हैंजैसे उद्योगपतिमंत्रीचिकित्सकअध्यापकनर्स आदि।
12.                         जेन्शियन (Gentian) :      उदासीनिराशा,हतोत्साहअनिश्चितता। यह उन लोगों के रोग में लाभदयक है जो कठिनाइयाँ आने पर और मनोनुकूल परिणाम न होने पर जल्दी ही साहस खो दते हैं इसके कारण उनमें उदासी और निराशा घर कर जाती है।
13.                         गॉर्स (Gorse): निराशा। जो लोग अपने रोग का इलाज कराते - कराते थक गए हों और रोग से मुक्त होने की आशा छोड़ चुके होंवे इस औषधि से रोग मुक्त हो सकते हैं।
14.                         हीदर Heather):     आत्म-केन्द्रित होनासदा अपनी चिन्ता करना। यह औषधि एग्रीमीनो के बिल्कुल विपरीत है। एग्रीमोनी का रोगी अपने कष्ट की चर्चा बिल्कुल नहीं करताजबकि हीदर का रोगी हमेशा दूसरों से अपना ही रोना रोता रहता हैचाहे बीमारी होपारिवारिक कष्ट हो या और कोई परेशानी। डाक्टर के पास अपनी बीमारी की छोटी-छोटी बातों को बहुत बढ़ा-चढ़ाकर विस्तार से वर्णन करता है।
15.                         होल्ली (Holly):      घृणा,र् ईष्याशक। जिनके स्वभाव में ये प्रवृत्ति पायी जाएँहोल्ली उनके लिए अमृत है। यह उनके केवल रोग को ही नहींबल्कि उनके मन से घृणा,र् ईष्या और शक को भी दूर करती है।
16.                         हनीसकुल (Honeysuckle):   सदा बीते यादों में खोए रहना। इस औषधि के विषय में डाँ. एडवर्ड बाक का निष्कर्ष उन्हीं के शब्दों में :
'' यह औषधि पिछले पश्चातापों और दुखों को मन से मिटाकर,बीते जीवन के प्रभावचाहतें और इच्छाओं को समाप्त कर हमें वर्तमान में लाने के लिए हैं। ''
17.                         हार्नबीम (Hornbeam) :     मानसिक एवं शारीरिक थकान। यह थकान मानसिक अधिक और वास्तविक (शारीरिक) कम होती है। अर्थात शारीरिक थकान मानसिक थकान के कारण महसूस होती है। ऐसी स्थिति में हार्नबीम मानसिक और शारीरिक शक्ति प्रदान करती हैं।
18.                         इम्पेशेंस (Impatiens) :     अधीरता,चिड़चिड़ापनचरम मानसिक तनाव। ये लोग बहुत ही बुद्धिमानतत्काल निर्णय लेने वालेजल्दी-जल्दी काम करने वाले होते हैं। यदि आप अपनी बात धीरे-धीरे कह रहे हों तो आपके वाक्य को वे खुद पूरा कर देते हैंकोई चीज देने में जरा भी विलम्ब हो तो वे उसे आपके हाथ से झपट लेते हैं अर्थात् जरा भी विलम्ब उनके लिए बर्दाश्त से बाहर हो जाता है और उनमें चरम मानसिक तनाव पैदा करता है। ऐसे लोगों की औषधि हैं : 'इम्पेशेंस'
अगले अंक में पुनः आगे की नौ औषधियों पर चर्चा की जाएगी।
****

12 comments:

  1. बाक फ्लावर औषधियों का तीसरा अंक प्रकाशित करने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  2. Thanks for all your contribution acharya ji.

    Regards

    ReplyDelete
  3. हम पढ़ रहे है और इसे पढने के उपरांत नवीन जानकारी को बाटने की हर कोशिश भी करेंगे . आभार आपका .

    ReplyDelete
  4. बाक फ्लावर औषधियो की और जानकारी मिली। अगले अंकों की प्रतीक्षा रहेगी।

    ReplyDelete
  5. .

    आदरणीय परशुराम जी ,

    आपका प्रयास बेहद सराहनीय है । आपके द्वारा दी जा रही जानकारी बेश कीमती है । साहित्य कों समृद्ध करते इन लेखों के लिए आपका आभार ।

    मेरे लिए ये जानकारी बिलकुल नयी है । आपके अगले लेख का इंतज़ार रहेगा ।

    .

    ReplyDelete
  6. mere liye bhi nai jaankaari rahi ,agle ke prtiksha me ....

    ReplyDelete
  7. ज्ञानवर्धक - धन्यवाद्

    ReplyDelete
  8. शुभागमन...!
    हिन्दी ब्लाग जगत में आपका स्वागत है, कामना है कि आप इस क्षेत्र में सर्वोच्च बुलन्दियों तक पहुंचें । आप हिन्दी के दूसरे ब्लाग्स भी देखें और अच्छा लगने पर उन्हें फालो भी करें । आप जितने अधिक ब्लाग्स को फालो करेंगे आपके अपने ब्लाग्स पर भी फालोअर्स की संख्या बढती जा सकेगी । प्राथमिक तौर पर मैं आपको मेरे ब्लाग 'नजरिया' की लिंक नीचे दे रहा हूँ आप इसके दि. 18-2-2011 को प्रकाशित आलेख "नये ब्लाग लेखकों के लिये उपयोगी सुझाव" का अवलोकन करें और इसे फालो भी करें । आपको निश्चित रुप से अच्छे परिणाम मिलेंगे । शुभकामनाओं सहित...
    http://najariya.blogspot.com

    ReplyDelete
  9. Thank u every one for such a good response. And I heartly congratulate Aacharya Ji for the post.

    ReplyDelete
  10. मै पहली बार हूं और मुझे अच्छा लगा आपका ब्लाग..अच्छी जानकारी है....फॉलो भी कर लिया है....आप भी आएं...

    ReplyDelete
  11. इस नए सुंदर से चिट्ठे के साथ आपका हिंदी ब्‍लॉग जगत में स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  12. " भारतीय ब्लॉग लेखक मंच" की तरफ से आप को तथा आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामना. यहाँ भी आयें, यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो फालोवर अवश्य बने .साथ ही अपने सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ . हमारा पता है ... www.upkhabar.in

    ReplyDelete